CAA PROTESTS/ “नागरिकता संशोधन अधिनियम”

APPEAL TO PEOPLE WHO ARE DOING CAB, NRC AND CAA PROTESTS

आज़ादी ( CAA PROTESTS )

हाँ मुझको चाहिए आज़ादी,(by caa protests)
बच्चों के बस में तोड़ फोड़ करने का चाहिए आज़ादी।
Violence करने का चाहिए आज़ादी।
पुलिस पर पत्थर मारने की चाहिए आज़ादी।
गाड़ी जलाने की चाहिए आज़ादी।
तुम कुछ भी करलो, हमको चहिए आज़ादी।
किसी को चोट लगे तो,
किसी का सामान नुकसान हो तो,
मुझे मतलब नहीं है।
आज़ादी।

मुझको चाहिए आज़ादी, आज़ादी, आज़ादी, आज़ादी।
हम तो लेकर रहेंगे, आज़ादी।
कैसे नहीं दोगे, आज़ादी।
हम तोड़-फोड़ करके लेंगे भइया, आज़ादी।
तुम नहीं दोगे? आज़ादी
हम किसी को मार भी देंगे। आज़ादी
तुमको डर लगा क्या?
हम और डराएंगे। आज़ादी
घर में घुसकर बैठ जाओ।
नहीं तो मारकर जायँगे। आज़ादी
डर लगा क्या? आज़ादी
अभी भी नहीं लगा क्या? आज़ादी

“अनुरोध

न लगवाओ भईया, इससे नही मिलेगी आज़ादी।
शांति से करो,
केवल बोलकर करो
फिर बोलो आज़ादी।

लड़ो आज़ादी के लिए, ज़रूरी है but किसी को मारने , पत्थराव करने, बस तोड़ने से, गाड़ीयाँ जलाने से आज़ादी नहीं मिल जाएगी जबकि किसी का नुकसान होगा तो बद्दुआ ही मिलेगा। ऐसी आज़ादी किस काम की जो किसी की जान लेकर, निर्दोष को चोट पहुँचाकर मिले? हद है! अब उन बच्चों का क्या कशूर जिनके बस में तोड़-फोड़ हुई, पुलिस को मार रहे हैं लोग, क्यों आज़ादी चाहिए?
जो तुम्हारे लिए दिन-रात खड़ा रहता है, उनको तुम पत्थर से मारोगे? वाह यार! सब खुश हुए, ताली बजा दो भाई।

हाँ मुझे कानून से चिढ़ है,
जब यहाँ भगवान को साबित करना पड़ा कि भाई उनका भी कोई वजूद है, उनको भी सबूत देना पड़ा कि मेरा जन्म स्थान वही है, वो भी कितने सालों तक। वो बात अलग है उनके तरफ से हमने दी पर बात तो एक ही है ना।

“यहाँ का कानून”

यहाँ तो किसी का रेप हो जाए तो उसको भी सबूत देना पड़ता है कि हाँ मैं प्रताड़ित हुई है, इसमें उसकी कोई गलती नहीं है। और साबित हो गया तो सजा होने में 10 साल से भी ज्यादा लग जाता है।
किसी का कत्ल हो जाए फिर उसको साबित करने में सालों लग जाते हैं।
उस system से चिढ़ है, इस system के बारे में नहीं बोल सकता क्योंकि लोग इतना कर दिए हैं न कि उसके बारे में बोलने का मन ही हट गया है। थोड़ा असर मुझपर भी हुआ तुम्हारे उपद्रव का। मैं किसी जाति विशेष की बात नहीं कर रहा हूँ नाकि धर्म sorry पन्त विशेष के बारे में। मैं उन्हें कह रहा हूँ जो देश में उपद्रव फैला रहे हैं।

नारा लगाओ भाई~ आज़ादी, आज़ादी….

“CAB, CAA और NCR के बारे में पढ़ना ज़रूर”

हाँ अगर तुम लोगों को उपद्रव करने से फुर्सत मिल जाए तो एक बार इन सबके बारे में पढ़ ज़रूर लेना। मालूम कर लेना कि होता क्या है, मतलब क्या है। नहीं तो शादी के बाद या बुढ़ापे में अपने बच्चों को या Grandchildren को क्या बताओगे? उनको भी गलत जानकारी दोगे। इससे उन्हें गलत जानकारी मिलेगी तो उनका भविष्य खराब होगा और इससे देश का भविष्य खराब होगा। जैसे कि अभी हो रहा है, तुम लोगों की वजह से।

बाकी,
हाँ मिलकर बोलो आज़ादी।
वो रनवीर सिंह वाला,
आज़ादी।
वो गली बॉय वाला,
आज़ादी।
हाँ वही track बजाकर,
आज़ादी।
उसी धुन में गाकर,
आज़ादी।

“आज़ादी का मतलब”

“उस बच्ची को भी चाहिए आज़ादी”

आज़ादी
हमें अपनी सोच से चाहिए आज़ादी।
हमको चाहिए आज़ादी।
उस बच्ची को चाहिए आजादी।
जिसको लूटा,
आज़ादी।
हमारी सोच ने लूटा,
आज़ादी।
जहाँ नेता बोले,
हो गई गलती,
होती रहती है गलती,
हमें इन सोच रखने वालों से चाहिए आज़ादी।

धर्म से ऊपर उठकर,
देश के लिए लड़ो।
उसके बाद माँगो आज़ादी।
फिरसे बोलो आज़ादी।
अपने सोच से चाहिए आज़ादी।
गंदी सोच से चाहिए आज़ादी।
आज़ादी।

“भीख माँगने वालों को भी चहिए आज़ादी”


जो दर-दर भटक रहा,
जो खाने के लिए तरस रहा,
जिसे भीख माँगने पर मिल न रहा,
उल्टी-सीधी बातें सुनने को मिल रहा।
उसे उन लोगों से चाहिए आज़ादी।
हमें अपनी सोच से चाहिए आज़ादी।

“औरतों और लड़कियों को भी चाहिए आज़ादी”

खुद के भीतर देखो,
क्या तुम सही हो?
पर लड़की है characterless
क्यों?
क्योंकि तुम कह रहे हो?
उसपर क्या बीतेगी।
तुम्हे परवाह नहीं है।
पर क्या तुम सही हो?
हमें सोच से चाहिए आज़ादी।

आज़ादी।

देश विरोधी
नारा लगता है,
हमें नहीं बोलना,
हमें सड़क पर नहीं उतरना,
क्या तुम सही हो?

आज़ादी,
कहने को बहुत कुछ।
अब कुछ नहीं बोलना।

बस तुम आग लगाओ,
देश जलाओ।
दहशत फैलाओ।
क्योंकि तुम्हें देश में रहना है।
तुम्हे देश है प्यारा?

किस घर में रहोगे?
क्या जिस घर में रहोगे,
उसे जलाते रहोगे?

आज़ादी।

“ये देश ही तुम्हारा घर है”

उसी तरह देश को समझो।
यही घर है तुम्हारा।
जिस देश को जलाया,
क्या उसी देश में रहने के लिए आज़ादी माँगते रहोगे?
क्या तुमको चाहिए आज़ादी?
या उनको चाहिए आज़ादी?
ज़रा बताना मुझको।
आज़ादी आज़ादी आज़ादी।

MY APPEAL IS TO DO CAA PROTESTS BUT DON’T DO VOILENCE PLEASE…

This Post Has 8 Comments

  1. Very nice… support women

    1. thanks

    1. THANKS

    1. Thankyou so much

    2. Dhanyawad

Leave a Reply

Close Menu